एक रुपया - सबको शिक्षा सबको भोजन

आदरणीय शिक्षकगण, अभिभावक एवं प्रिय विद्यार्थीगण,

जैसा की आप जानते है शिक्षा का हमारे जीवन में बहुत महत्त्व है | बिना शिक्षा के मानव जीवन नरक के सामान है क्योकि शिक्षा ही मानव को संस्कार देती है और शिक्षा से ही सभ्यता का विकास होता है | शिक्षा की वजह से ही मनुष्य में महान सद्गुणों का उद्भव संभव है | आज शिक्षा की वजह से ही आप और हम एक दूसरे को समझ पाते है और व्यवहार करते है |

हमारे देश में आज भी साक्षरता दर करीब 74% है जबकि प्राचीन भारत में साक्षरता लगभग 90% से अधिक थी और प्रत्येक गाँव में गुरुकुल एवं शिक्षा केंद्र स्थापित थे | पूर्वकाल में शिक्षा में गरीब अमीर का अंतर नही था एवं सभी तरह के विद्यार्थी पूर्ण भाईचारे के साथ शिक्षा ग्रहण करते थे परन्तु आज शिक्षा व्यवसायिक हो गयी है तथा गरीब वर्ग आज अपने बच्चों को शिक्षा के लिए अच्छे विद्यालयों में नही भेज पा रहा है | विभिन्न प्रकार की सरकारी योजनाओं के बावजूद काफी बच्चे शिक्षा से आज भी कोसो दूर है, वजह काफी है इसके लिए परन्तु मुख्य वजह है सरकारी योजनाओं का आमजन को अल्प ज्ञान एवं बेरोजगारी | आज काफी बच्चे सिर्फ इसलिए विद्यालय नही जा पाते क्योकि उनको काम करके अपने लिए दो वक्त का भोजन जुटाना होता है | यह सच्चाई काफी कडवी हो सकती है की हमारी सरकारे एक तरफ बाल मजदूरी पर रोक लगाती है लेकिन दूसरी तरफ गरीब बच्चो के भोजन और शिक्षा के कोई विशेष प्रबंध नही है |

कुछ निजी स्वयंसेवी संस्थाए ऐसे बच्चों को पढ़ाने का पावन संकल्प लेकर कार्य कर रही है और उन्हें कुछ बच्चों को साक्षर करने में सफलता भी प्राप्त हो रही है लेकिन अभी और काफी प्रयास करने की नितांत आवश्यकता प्रतीत होती है | ऐसे में समर्पण भारत द्वारा इस शिक्षा रुपी महायज्ञ में कुछ बच्चों को साक्षर कर अपना योगदान देने का छोटा सा प्रयास किया जा रहा है जो आप सभी के पूर्ण सहयोग बिना संभव नही है | आप शिक्षक है या विद्यार्थी, व्यवसायी है या नौकरीपेशा, गृहणी है या अन्य, आप सभी मानव जीवन में शिक्षा की उपयोगिता से  भलीभांति परिचित है और आप सभी भी यही चाहते है की भारत देश पूर्णतया साक्षर बने एवं कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे | अतः आप सभी से समर्पण भारत का निवेदन है कि इस महायज्ञ में मात्र एक रूपये का मासिक सहयोग कर पूर्णाहुति में सहयोग करे जिससे हम शत प्रतिशत शिक्षादर प्राप्त कर सकें | आप सभी अपना मासिक अंशदान हमें 9694321008 पर paytm करें या समर्पण भारत के बैंक खाता में जमा कराएँ

समर्पण भारत

Bank of Maharashtra (Mahabank)

A/C No.: 60228360741 
IFSC: MAHB0001701
Pancard No: AAPTS5037C
A/C type:- Current A/C

 

समर्पण भारत धार्मिक एवं सामाजिक क्षेत्र की एक रजिस्टर्ड एवं ट्रेडमार्क संस्था है, जो जनसेवा के विभिन्न क्षेत्रों में जनसहयोग से कार्य कर रही है । समर्पण भारत के मुख्य उद्देश्यों में एक प्रमुख उद्देश्य "सबको शिक्षा सबको भोजन" है। जिससे संपूर्ण भारतवर्ष में कोई भी अशिक्षित एवं कुपोषित न रहे। इसके लिए समर्पण भारत द्वारा वर्ष भर में कई कार्य एवं कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। साथ ही अन्य संस्थाओं के सहयोग से भी कार्यों को क्रियान्वित किया जाता है। या सभी से निवेदन है कि समर्पण भारत के पावन संकल्पों एवं उद्देश्यों में सहभागी बनकर जनसेवा कार्यों को आगे बढ़ाएं।

 

एक बच्चे की शिक्षा में पूर्ण सहयोग करें : 1500/- मासिक

(गणवेश, पुस्तक, पेन, कॉपी, बैग एवं शिक्षा)

एक गरीब बच्चे के भोजन में सहयोग करें : 1500/- मासिक

एक आधुनिक शिक्षा युक्त वैदिक गुरुकुल निर्माण में सहयोग करें: 500/-, 1100/-, 2100/-, 5100/-, 11000/-, 21000/-

गुरुकुल में एक भवन निर्माण हेतु सहयोग करें:

सामान्य कमरा : एक लाख रूपये

बड़ा कमरा : एक लाख इक्यावन हज़ार रुपये

हॉल : दो लाख इक्यावन हज़ार रुपये

अनाथ एवं परित्यक्त बच्चियों के आवास एवं भोजन हेतु समर्पण भारत के भावी प्रोजेक्ट "यशोदा धाम" के लिए सहयोग करें:

एक बच्ची का पोषण : 1100/- रुपये मात्र

एक बच्ची का भोजन शिक्षण : 2100/- रूपये मात्र

सामान्य कमरा : एक लाख रूपये

बड़ा कमरा : एक लाख इक्यावन हज़ार रुपये

हॉल : दो लाख इक्यावन हज़ार रुपये